जन्म के समय कम वजनी लड़कियों को गर्भधारण के दौरान खतरा

जन्मजात कुपोषण या कम वजन की समस्या का सामना कर रही लड़कियों में गर्भधारण के दौरान खतरा रहता है। उनके बड़े हो जाने के बाद भी उनके स्वास्थ्य में खतरा बने रहता है खासकर इन खतरों की संभावनाएं गर्भधारण के दौरान और अधिक बढ़ जाती हैं।

हाल ही में हुए आस्ट्रेलिया के मेलबर्न विश्वविद्यालय के शोध के अनुसार, अंडरवेट पैदा हुई युवतियों में स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होने का खतरा अधिक होता है और उनमें आगे चलकर प्रेगनेंसी के दौरान समस्याएं भी हो सकती हैं।  अध्ययन में निष्कर्ष निकाला गया है कि प्रेगनेंसी के बाद इन महिलाओं को दिल, किडनी, एड्रेनल और मेटाबॉलिज्म जैसी स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। ऐसे में इस शोध के निष्कर्षों में माना गया है कि जिन महिलाओं का वजन पैदा होने के समय कम रहता है उन्हें भविष्य में दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होने का खतरा ज्यादा होता है।

Loading...
loading...
Comments