महिलाओं में क्यों बढ़ रहा है डिप्रेशन

कुछ दिनों पहले आये एक सर्वे से पता चला है कि घर और आफिस में काम के दुगने बोझ के कारण महिलाओं में पुरुषों के मुकाबले ढाई गुना ज्यादा डिप्रेशन की शिकार होती हैं। खासकर 25 से 40 साल की उम्र में महिलाएँ डिप्रेशन का सबसे ज्यादा शिकार होती हैं। पिछले कुछ सालों में बेशक महिलाओं ने बहुत प्रोग्रेस की है और उनकी पोजिशन में चेंज भी बहुत आया है, लेकिन इसी के साथ बढ़ी है उनकी टेंशन। इसी का नतीजा है कि बीते 40 सालों में महिलाओं में डिप्रेशन डबल हो गया है।

यानी अगर आप करियर, फैमिली लाइफ और रिलेशनशिप्स के बीच खुद को जकड़ा हुआ महसूस करती हैं, तो इसका मतलब है कि आपको खुद पर ध्यान देने और अपने बारे में सोचने की जरूरत है। गौरतलब है कि पिछले दिनोें आई एक स्टडी में बताया गया है कि करियर और बच्चों, दोनों की उधेड़बुन में उलझी महिलाओं की जिंदगी में 1970 के मुकाबले डिप्रेशन डबल हो गया है। देखने में आया है कि खासतौर पर 25 से 40 साल की उम्र के बीच की महिलाएं अपने मेल कलीग्स के मुकाबले 3-4 गुना ज्यादा डिप्रेशन में रहती हैं।

Prev post1 of 4

Loading...
loading...
Comments