नाखूनों के रंगों से जुड़े है आपके सेहत का राज?

नाखूनों के रंगों को लेकर लोगों के बीच कई प्रकार की धारणाएं हैं। कई बार देखा गया है कि लोगों के नाखूनों पर सफेद दाग हो जाते है। इन दागों को लोगों द्वारा स्वास्थ्य से जोड़कर देखा जाने लगता है। इतना ही नहीं इन सफेद दागों से जुड़े कई भ्रांतियां भी है। आमतौर पर कहा जाता है कि शरीर में कैल्शियम की कमी से ये सफेद दाग पड़ जाते हैं।

लेकिन ये सच नहीं हैं। जानिए आपके नाखूनों पर क्यों पड़ जाते हैं सफेद दाग। चिकित्सा विशेषज्ञों के मुताबिक, ये सफेद दाग दरअसल नाखूनों के नीचे की मृत कोशिकाएं होती हैं। कई बार हमारे नाखून किसी कारणवश चोट के शिकार हो जाते हैं और हमें उसका एहसास नहीं होता है। लेकिन कुछ समय बाद जब नाखून वृद्धि कर जाते हैं तो ये स्पॉट दिखाने लगते हैं। कभी-कभी कुछ मामलों में ये सफेद स्पॉट नाखूनों में कवक संक्रमण (फंगस इंफेक्शन) और बुखारजनित बीमारी के कारण भी दिखने लगते हैं।

नाखूनों के रंगों से जुड़े राज

पीले नाखून : कम या हल्के पीले व कमजोर नाखूनों से एनीमिया (शरीर में खून की कमी), हृदय संबंधी परेशानी, कुपोषण व लिवर रोगों के होने का पता चलता है। फंगल इन्फेक्शन के कारण पूरा नाखून ही पीला हो जाता है। कई बार पीलिया, थाइरॉएड, मधुमेह और सिरोसिस में भी ऐसा हो सकता है। नाखून पीले व मोटे हैं और धीमी गति से बढ़ रहे हैं तो यह फेफड़े संबंधी रोगों का संकेत हो सकता है।

◆ सफेद नाखून : कई बार नाखूनों पर सफेद धब्बे नजर आते हैं तो कई बार वे पूरे सफेद दिखते हैं। नाखूनों की सफेदी लिवर रोगों के अलावा हृदय व आंत की ओर भी संकेत करती है।

◆ नाखूनों में उभार : बाहर और आसपास की त्वचा का उभरा होना हृदय समस्याओं के अतिरिक्त फेफड़े व आंतों में सूजन का संकेत देता है।

◆ नीले नाखून : शरीर में ऑक्सीजन का संचार ठीक प्रकार से न होने पर नाखूनों का रंग नीला होने लगता है। यह फेफड़ों में संक्रमण, निमोनिया या दिल के रोगों की ओर भी संकेत करता है।

◆ आधे सफेद और आधे गुलाबी नाखून : नाखूनों का रंग अचानक आधा गुलाबी व आधा सफेद दिखाई दे तो ऐसा होना गुर्दे के रोग व सिरोसिस का संकेत देता है।

◆ लाल व जामुनी रंग : नाखूनों का गहरा लाल रंग हाई ब्लड प्रेशर यानी उच्च रक्तचाप का संकेत देता है, जबकि जामुनी रंग के नाखून लो ब्लड प्रेशर (निम्न रक्त चाप) का संकेत देते हैं।

◆ चम्मच की तरह नाखून : खून की कमी के अलावा आनुवंशिक रोग, ट्रॉमा की स्थिति में भी नाखूनों का आकार चम्मच की तरह हो जाता है और नाखून बाहर की ओर मुड़ जाते हैं।

Loading...
loading...
Comments