गाड़ी की चाबी से तय होता है, किसकी बीवी किसके साथ सोएगी..!!

वाइफ स्वैपिंग (Wife Swapping) यानी पत्नियों की अदला-बदली। यह सुन कर शायद आपको अजीब लग रहा होगा, पर आपको बता दें कि ऐसा हकीकत में होता आया है। वाइफ स्वैपिंग को पूरी तरह से विदेश का कल्चर माना जाता है कि सेकेंड वर्ल्ड वार के बाद यह अश्लील खेल समाज में आया था। अपने देश के कुछ हाई प्रोफाइल तबको में इसको स्वीकार किया जाता है।

अपने देश का समाज और संस्कृति भले ही इसको स्वीकार ना कर पाई हो पर इसको फॉलो करने वाले लोग इसको सिर्फ सेक्सुअल प्लेजर ही मानते हैं। एक लाइफ स्टाइल पोर्टल लिखता है कि अब वाइफ स्वैपिंग पार्टियां भी होने लगी हैं जो कि बड़े-बड़े होटल्स में गुप्त तरीके से होती हैं।

  • ये होते हैं वाइफ स्वैपिंग के रूल्स….

1. इन पार्टियों में सिर्फ वही कपल्स भाग ले सकते हैं जो कि वाइफ स्वैपिंग को गलत नहीं मानते हैं।
2. ऐसा भी कहा जाता है कि पति आता तो अपनी पत्नी के साथ में है, पर जाता है हमेशा दूसरे की वाइफ के साथ।
3. पार्टनर चूज करने के लिए एक बाउल का यूज किया जाता है, जिसमें सब लोग गाड़ियों की चाबी रख देते हैं और उन चाबियों से एक-एक चाबी प्रत्येक वाइफ अपनी आंखें बंद कर के उठती है। जिसके पास जिस व्यक्ति की चाबी आ जाती है वह उसके साथ में स्वैप हो जाती है।
4. इसका एक रूल यह भी होता है कि गेम के ख़त्म होने के बाद न तो पत्नी और न ही पति किसी प्रकार की ग्लानि रखेगा।

Loading...
loading...
Comments